एक गुमनाम विद्वान

babaji गाँधीजी की जन्मभूमि पोरबन्दर में सन १८४९ जन्में इन महान विद्वान का नाम था जयकृष्ण इन्द्रजी ठाकर। स्कूल की आठ आने की फ़ीस ना भर पाने की वजह से अंग्रेजी माध्यम से कक्षा तीन तक ही पढ़ पाये, क्यों कि कक्षा ४ की फ़ीस १ रुपया महीना थी जो कि इन्द्रजी के लिये भर पानी मुश्किल थी।

मात्र कक्षा तीन तक पढ़ पाने वाले इन्द्र जी को डॉ भगवान लाल इन्द्रजी का सानिध्य मिलते ही उन्होने इन्द्रजी के अन्दर छुपे विद्वान को पहचान लिया और उन्हीं की मदद से इन्द्र जी वनस्पती शास्त्र के महापंडित बने। [पूरा लेख पढें …]

लेख पढते समय इसके लेखक  सागर चन्द नाहर को 7 जूलाई, उनके जन्मदिन, की बधाईयां/शुभकामनाये उनके चिट्ठे पर टिप्पना न भूलें — शास्त्री

चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: सारथी-पुनरवलोकन, सारथी, महान-भारतीय, अनजान-भारतीय, भारतीय-विद्वान

Share:

Author: Super_Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.