बिन खर्च के ब्याज

गुन है विनय ऐसा,
कि खरच न होय किसी का कुछ
लेकिन छोड जाये पिरभाव
मनों में अ‍ईसा
कि बिठाल लें लोगन
विनयवान को मनों मे
अपने अपने.

अध्यापक थे हमारे टंडन जी,
दिलाते थे यह बात हर
नये साल पर,
कि बच्चो सुनो मेरी यह सीख.
खरच कछु नाहिं अजमाने में
सीख यह मेरी.
हुआ नफा तो बढा देना
इस ज्ञान को आगे,
हुआ नुक्सान तो डाल देना
इस सीख को टोकरी में रद्दी की.

सच बतलाऊं तो
नहीं मिली सिक्सा अ‍ईसी
किसी से.
हम तो बटोर रहे हैं
ब्याज तब से.

चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: काविता, काव्य-विधा, काव्य-अवलोकन, सारथी, शास्त्री-फिलिप, hindi-poem, hindi-poem-analysis, hind-context, [कृपया मेरे चिट्ठे तरंग, गुरुकुल, एवं इंडियन फोटो पर भी पधारें]

Share:

Author: Super_Admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.