हंस ने कैसे अपने पंख मुझे दिये

Swan

बचपन से ही भाषा के प्रति मेरी काफी रुचि रही है. धन्य हों मेरी हिन्दी अध्यापिकायें महादेवी गुप्ता एवं शकुंतला दुग्गल जिन्होंने मेरी भाषा की नीव डाली.

स्नातकोत्तर पठन के बाद शोध छात्र बन गया, लेकिन साथ ही पत्रकारिता का एक छात्र भी बन गया. वहां हम को बारबार बताया जाता था कि ऐसा लिखों कि पाठकों में से गधे से गधा भी विषय को समझ सके. इस कारण मैं ने अपने लिये एक ऐसा विशाल शब्द भंडार एकत्रित करना आरंभ किया जिसके द्वारा हर आशय को सरल से सरल शब्दों में प्रगट किया जा सके.

संयोग से 1990 में हंस नामक पत्रिका मेरे हाथ लगी एवं जल्दी ही मैं ने उसका आजीवन चन्दा भेज दिया. इसके लेखकों में से कई की विशेषता है कि हर अभिव्यक्ति के लिये वे सरल से सरल हिन्दी शब्द चुन कर लाते हैं. मैं ने ऐसे शब्दों को एक छोटी सी डायरी में लिख कर अपनी जेब में रखना, एवं समय मिलने पर उस सूची को फेरना शुरू कर दिया. आज मुझे गर्व है कि किसी भी विषय पर लिखनेबोलने के लिये मुझे हिन्दी में पर्याप्त शब्द मिल जाते हैं. वाकई में इस हंसे ने मुझे उडने के लिये पंख दिये. एक बार आप भी आजमा कर देखें.

आपने चिट्ठे पर विदेशी हिन्दी पाठकों के अनवरत प्रवाह प्राप्त करने के लिये उसे आज ही हिन्दी चिट्ठों की अंग्रेजी दिग्दर्शिका चिट्ठालोक पर पंजीकृत करें!

चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: हिन्दी, हिन्दी-जगत, राजभाषा, विश्लेषण, सारथी, शास्त्री-फिलिप, hindi, hindi-world, Hindi-language,

Share:

Author: Super_Admin

5 thoughts on “हंस ने कैसे अपने पंख मुझे दिये

  1. सही कहते हैं। सतत स्तरीय पढ़ते रहें – पूरी चेतनता से। भाषा स्वत: उत्तरोत्तर समृद्ध होगी।

  2. सहमत!! साहित्यिक पत्र पत्रिकाएं पढ़ने से फ़ायदा होता ही है!!

    जब हम छोटी उम्र के थे तभी से बड़े भाई साहब के लाए गए साहित्यिक पत्र पत्रिकाओं को पढ़ने का चस्का जो लगा था, वो आज तक कायम है!!

  3. सच मे आपके अध्यापक धन्य हो गए जिन्हे आप जैसा शिष्य मिला. अध्यापक के लिए उत्तम शिष्य मिलना ऐसे जैसे साधना सफल हो गई हो.

Leave a Reply

Your email address will not be published.