स्वचलित चिट्ठा कैसे बनायें

अक्टूबर 15 से नवम्बर 8 तक मैं अपने कोच्चि घर-दफ्तर से दूर था. यात्रा के दौरान जाल एवं संगणक के मामले में मैं अधिकतर अपाहिज रहा. लेकिन इसके बावजूद रोज सुबह 6 बजे एक नया लेख छपता रहा. इसके पीछे दोतीन रहस्य हैं.

Hourglass

पहला रहस्य है मेरे “छोटे लेख” फिलासफी का जिसके कारण मैं ऐसे विषयों को चुन सका जिन पर बिना अपूर्णता महसूस हुए 200 शब्द से कम के लेख लिख सका. 200 शब्द से कम में लिखने के लिये अपने आपको ट्रेन करने में एक महीना लगा लेकिन आज उसका फायदा मिल रहा है. स्व-ट्रेनिंग के बाद छोटे लेख लिखना एवं संपादित करना 1500 शब्द के लेख लिखने की तुलना में 10 गुना आसान हो जाता है.

दूसरा रहस्य है कि स्व-ट्रेनिंग के बाद छोटे लेख कम समय में लिखे जा सकते हैं. अत: कोच्चि छोडने के पहले उपलब्ध समय में करीब 20 लेख पहले से लिख कर समय/तारीख तय करके पोस्ट कर दिया. (यह सुविधा “वर्डप्रेस” तंत्र से संचालित हर चिट्ठे पर उपलब्ध है. ब्लॉगर का मुझे अनुमान नहीं है. हो तो जानकार उसे टिप्पणी में जोड दें तो बडा आभार होगा.) लंबे लेख लिखने जाता तो इस समय में कुछ न कर पाता.

इस तरह पिछले 20 दिन मेरे लेख तंत्रांश की मदद से अपने आप चिट्ठे पर आते जा गये. मैं इन 20 दिनों में आपकी सारी टिप्पणियां पढता रहा पर जालआदि कि सुविधा कम होने के कारण जवाब न दे सका. आभारी हूं आप सबका.

जब भी आपके पास आधा घंटा हो तो क्यों न एक लेख लिख कर भविष्य के उपयोग के लिये पोस्ट कर दें या अपने संगणक पर ही सुरक्षित रख लें ? आपका चिट्ठा कुछ और नियमित हो जायगा!

Share:

Author: Super_Admin

12 thoughts on “स्वचलित चिट्ठा कैसे बनायें

  1. शास्त्री जी, व सभी पाठक गण
    हॉटमेल के नवीनतम (किंतु बीटा) वर्ज़न के साथ एक सुविधा यह भी है कि आप अपने किसी भी ब्लॉग के लिए पहले से लिखकर उसे आगामी तारीखों के लिए अनुसूचित कर सकते हैं।

    http://get.live.com/messenger/config

    With the latest Bita Version of Hotmail Messenger, U also get provision to write post (Live Writter) for any of Ur blog and schedule it to be posted on future dates!

  2. संजय भाई

    इस बात पर विस्तार से बतायें.

    शास्त्री जी, आपकी सलाह सर आँखों पर .लिखना छोटा तो किया है मगर अभी भी २०० शब्दों से बहुत दूर हूँ और बदनाम हूँ लम्बा लिखने के लिये.

  3. कोई मित्र, यह भी बताए कि क्या ब्लॉगर पर यह सुविधा है कि नहीं। मैं कई दिनों से इसको लेकर परेशान हूं।

  4. बहुत अच्छी जानकारी …आने वाले समय मे जब यात्रा के दौरान लिखना पढना सम्भव न हो तो इस सुविधा का प्रयोग किया जा सकता है ..बहुत बहुत धन्यवाद्

  5. शास्त्री जी,आप के अनुभव से हम सभी लाभ उठाते रह्ते हैं।आप का दिया यह सुझाव भी बहुत बढिया व लाभ दायक है।धन्यवाद।

  6. यह सुविधा ब्लॉगर ने तो अभी तक नही दी है शायद!! अगर ब्लॉगर में भी उपलब्ध हो जाए तो बहुत बढ़िया हो!!

  7. Hearty Welcome to Shastri Sir!

    As on date, it appears that Blogger/Blogspot does not offer this feature directly.

    May be other more elegant solutions exist but a possible crude workaround is using the email posting option of blogger and scheduling the email posting.

    Steps –

    1. Enable posting by email by going to
    Dashboard > Settings > Email > Mail-to-Blogger Address
    and set up the email id,
    with “Publish emails immediately” option selected

    Then whenever a post is made to the said email id, it will get posted automatically.

    2. Scheduled email delivery could be managed through

    2a.
    http://www.lettermelater.com/
    and more specifically this page may be read
    http://www.lettermelater.com/forum.php?id=2

    Or

    2b. If available, other server based methods like cron tasks

    OR

    2c. If Outlook with Exchange server is available then http://tinyurl.com/ywc8pb OR Paid solutions like http://tinyurl.com/9m382 and many others like this

    OR

    2d. otherwise ask some loved one to press the send button everyday… manual scheduling 😉 agreed thats really bad!! – but when nothing works in life, there is no one like a loved one!!!! 🙂

    DISCLAIMER – Use any or all the above, specially 2d. at your own risk – I hv not tried any of these, so pls test b4 using on your mainstream blog!!! 🙂

    HAPPY DIWALI EVERYONE !!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *