क्या आज भी ऐसे लोग है ??

Guide_Orchha

(ओरछा: शास्त्री बाघ, हमारे गाईड, शास्त्री फिलिप, अमित)

पिछले दिनों एक एतिहासिक चिट्ठा बनाने के लिये ओरछा के प्राचीन महलों (झांसी से 20 किलोमीटर) पर एतिहासिक अनुसंधान करते समय हम ने एक गाईड की सेवायें लीं जिससे कि कोई भी महत्वपूर्ण निर्माण हमारी नजर से न बच सके.

गाईड ने एक घंटे का समय निश्चित किया एवं हमें हर जगह ले गये. हर जगह मैं ने या मेरे विद्यार्थी-सहकर्मी उपाचार्य जिजो (चित्र में नहीं हैं) ने काफी इलेक्ट्रानिक चित्र लिये. गाईड ने कहीं भी जल्दी नहीं मचाई, बल्कि कई चीजों की बारीकियां बताईं जिससे हम उन का चित्र जरूर ले लें.

गाईड ने एक के बदले दो घंटे हमे दिये एवं अंत में फीस लेने से मना कर दिया. उनका कहना था कि टूरिस्ट और पैसे बहुत मिल जायेंगे, लेकिन भारतीय एतिहासिक धरोहर की याद को सुरक्षित करने के लिये जो लोग कोशिश कर रहे हैं उनसे वे पैसा कतई नहीं लेंगे. मुझे काफी जोरजबर्दस्ती करके पैसा उनकी जेब में डालना पडा क्योंकि मेरी सोच यह है कि ऐसे लोगों का पैसा मारने के बदले उनको तो दुगना आदर दिया जाना चाहिये.

शत शत प्रणाम उन लोगों को जो देश के सांस्कृतिक धरोहर को सुरक्षित देखना चाहते हैं एवं जिसके लिये वे अपनी रोजी को भी छोडने को तय्यार है! क्या आज भी ऐसे लोग हैं? निश्चित ही हैं!

मेरे पिछले लेख:
धर्मसंकट !!
विनाश का आनंद
चिट्ठाकारी एक लफडा है ?

चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: विश्लेषण, आलोचना, सहीगलत, निरीक्षण, परीक्षण, सत्य-असत्य, विमर्श, हिन्दी, हिन्दुस्तान, भारत, शास्त्री, शास्त्री-फिलिप, सारथी, वीडियो, मुफ्त-वीडियो, ऑडियो, मुफ्त-आडियो, हिन्दी-पॉडकास्ट, पाडकास्ट, analysis, critique, assessment, evaluation, morality, right-wrong, ethics, hindi, india, free, hindi-video, hindi-audio, hindi-podcast, podcast, Shastri, Shastri-Philip, JC-Philip,

Share:

Author: Super_Admin

9 thoughts on “क्या आज भी ऐसे लोग है ??

  1. ये गाइड सज्जन अच्छे लगे। इस पैसे के लालच के युग में ऐसी बात साधारण से अलग जो है।

  2. मेरी सोच यह है कि ऐसे लोगों का पैसा मारने के बदले उनको तो दुगना आदर दिया जाना चाहिये.

    आपकी राय से सहमत हूं..

  3. आज के युग मे जहाँ हर तरफ लूट मची है वहां ऐसे लोग कम ही मिलते है।

  4. शास्त्री जी,
    एक पंक्ति आप लिखना भूल गए कि ‘फिर आपका सपना टूट गया’।
    सचमुच सराहनीय है। नहीं तो हमने यात्रियों को लूटते ही देखा है।

  5. अगर वाकई में ऐसे लोग होते तो हमारी सरकार को “अतिथि देवो भव” का अभियान ना चलाना पड़ता. खुशकिस्मत हैं आप की आपको हमारी सभ्यता और संस्कृति पर गर्व करने वाला एक भारतीय मिला टूरिस्ट गाइड के रूप में.

Leave a Reply to Gyan Dutt Pandey Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *