स्त्री समलैंगिकता और स्वास्थ्य !

image चूँकि समलैंगिकों का यौनजीवन सामान्य पुरुष-स्त्री यौनजीवन से एकदम भिन्न होता है अत: पिछले आलेख में हमने यह देखा कि क्या पुरुष स्वास्थ्य पर कोई असर होता है. इस आलेख में लेस्बियनों की आदतों के बारे में देखेंगे कि स्वास्थ्य पर उसका  कोई असर पडता है या नहीं.

चित्र: अमरीका में 2004 में हुए लेस्बियनों के परेड में एक समलैंगिक दम्पत्ति

अनुसंधान के लिए मैं ने पापलाईन का उपयोग किया है जो कि 1827 से आज तक हुए यौनसंबंधी 360,000 वैज्ञानिक अनुसंधान रपटों का संग्रह है. अनुसंधानों के आधार पर समलैंगिक मैथुन एवं स्वस्थ्य संबंधी निम्न बातें प्रकाश में आई हैं:

  1. पुरुष समलैंगिकों की तुलना में स्त्री समलैंगिक लोग (लेस्बियन) डाक्टरों के पास जाने में अधिक हिचकती हैं जिसके कारण उनके कई यौनजनित रोग समय पर चिकित्सा न मिलने के कारण काफी जटिल हो जाते हैं.
  2. कई प्रकार के बेक्टीरिया, अमीबियासिस, हेपेटाईटिस बी, एवं कई प्रकार के वायरसों का प्रसार इन लोगों में आम जनता की तुलना में कई गुना होता है.
  3. गले के वायरल, बेक्टीरियल और फंगल संक्रमण इन लोगों के बीच एक महामारी बन चुकी है.
  4. आम जनसंख्या की तुलना में लेस्बियनों के बीच ह्यूमन पेपिलोमा वायरस, योनि पर होने वाले फोडे, सिफिलिस, गोनोरिया, हर्पिस आदि की संख्या कई गुना अधिक होती है.
  5. जो स्त्रीसमलैंगिक योनि एवं गुदा आधारित तृप्ति के लिये कृत्रिम यंत्रों का उपयोग करते हैं, उनमें बेक्टीरिया एवं वायरसों का फैलाव सामान्य से कई गुना अधिक होता है.
  6. इन लोगों की औसत उमर जनसामान्य की औसत उमर से कम होती है क्योंकि यौन-जनित रोग इनके स्वास्थ्य को खोखला कर देते हैं.

इस लेखनमाला में मैं ने इस बात के विश्लेषण की कोशिश नहीं की है कि समलैंगिकता सही है या गलत है, बल्कि विषय को सिर्फ वैज्ञानिक धरातल पर रखा है. इस के आधार पर एक बात स्पष्ट है: चाहे पुरुष समलैंगिक हो या स्त्री समलैंगिक हो, वे एक बहुत खतरनाक जीवन बिता रहे हैं. उतना ही खतरनाक जितना हाईवे पर आंख मीच कर पैदल चलने वाला व्यक्ति कर रहे हैं.

(कल के आलेख में देखेंगे कि समलैंगिकता का उद्भव क्या है. क्या यह आनुवांशिक है या मनोवैज्ञानिक है, या और कुछ है).[क्रमश:]

Indian Coins | Guide For Income | Physics For You | Article Bank  | India Tourism | All About India | Sarathi | Sarathi English |Sarathi Coins  Picture from Wiki

Share:

Author: Super_Admin

2 thoughts on “स्त्री समलैंगिकता और स्वास्थ्य !

  1. HINDI is honoured to have a scholar like u . Very different blog from commonly written, mediocre hindi blogs.

  2. जो टिप्पणी कुछ देर पहले की थी, वह पूर्ण सत्य थी जिसका समर्थन आपकी यह पोस्ट कर रही है.

Leave a Reply to munish sharma Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *