सारथी चुने हुए उद्धरण 10

सारथी का एक लक्ष्य अन्य चिट्ठाकारों को प्रोत्साहित एवं प्रोमोट करना है. गद्य पद्य आदि से चुने हुए मोती इस लक्ष्य के साथ चुने-प्रस्तुत किए जाते है. उम्मीद है कि ये आपके लिये उपयोगी सिद्ध होंगे.

**** पत्रकारों ने ही नाम दिया था, ‘बाहुबली’.आज जिन्हें पत्रकारों और टीवी चैनल ने ‘बाहुबली’ बना दिया है, उन्हें बचपन में हम गुंडा और लुच्चा जैसे नामों से जानते थे.बढ़िया पैकेजिंग करके चीजों को बेचने की ललक ने उन्हें नया नाम दे दिया, ‘बाहुबली’. पत्रकारों को भी खुद से कुछ सवाल करने चाहिए

**** दुनिया में ऐसा कोई काम नहीं जिसके लिए मैनेजमेंट की जरूरत नहीं पड़ती। हाँ ये अलग बात है की हर मैनेजमेंट के लिए मोटी मोटी किताबों को पढने की जरूरत नहीं पड़ती. सेल्फ मैनेजमेंट: फूल गुलाब का… मेरी महबूबा के लिए

**** जब किसी विषय पर एक से अधिक लोगों के मध्य विचार होता है तब असहमति भी होती है और होना भी चाहिए क्योंकि उससे ही किसी नए मत के निर्माण की संभावना होती है। चिल्ला कर शांति की कोशिश बेकार

**** वीडियो गेम में सिखाने के लिए काफी प्रभावशाली तरीके का प्रयोग किया जाता है। संभवत: इसी कारण हिंसक वीडियो गेम्स खिलाड़ियों को आक्रामक बना देता है। एक नए अध्ययन में इसकी जानकारी दी गई। वीडियोगेम बनाते है खिलाडियों को आक्रामक

**** उस नौजवान ने इस इश्तिहार का मतलब यह बताया कि पुराने जमाने में कन्याएं बंदे का कैरेक्टर देखती थीं, अब सिर्फ मोटरसाइकिल देखती हैं। सो मोटरसाइकिल और कैरेक्टर का कंपेरीजन करें, तो मोटरसाइकिल का महत्व ज्यादा दिखायी पड़ता है। मोटरसाइकिल वालों की समझदार पत्नियां

**** कैसी विडंबना है कि हिंदी प्रदेशों के दर्शकों की तरफ हिंदी फिल्मों के निर्माता, निर्देशक और स्टारों का ध्यान नहीं है। क्या हम उम्मीद कर सकते हैं कि कभी लखनऊ, भोपाल, पटना, शिमला या जयपुर में किसी हिंदी फिल्म का भव्य प्रीमियर होगा! लंदन, न्यूयॉर्क और टोरंटो में फिल्मों के प्रीमियर से गौरवान्वित होने वाले स्टारों से हम ऐसी उम्मीद करें भी तो कैसे? हिंदी प्रदेशों की उपेक्षा करते हैं स्टार

चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: हिन्दी, हिन्दी-जगत, राजभाषा, विश्लेषण, सारथी, शास्त्री-फिलिप, hindi, hindi-world, Hindi-language,

Share:

Author: Super_Admin

2 thoughts on “सारथी चुने हुए उद्धरण 10

  1. शास्त्री जी आपका यह कालम बहुत अच्छा लगा, यहाँ के लिंक वाकई बहुत बढ़िया है, वैसे तो आपके अधितर सारे ही लिंक चुने हुए और मार्गदर्शक होते है

  2. आपका अत्यन्त व्यवस्थित यह प्रयास वाकई में प्रशंसा के योग्य है. अपने तो हर तरफ़ से चिट्ठाकारों की नब्ज पकड़ रखी है. मेरे चिट्ठे को पसंद करने के लिए हार्दिक धन्यवाद.

Leave a Reply

Your email address will not be published.