तीसरे खंबे की क्या जरूरत है ?

TeesK

“तीसरा खंबा” चिट्ठालोक में एक नया नवेला चिट्ठा है. सारथी के लिये यह एक अनुज के समान है जिसके बारे में सारथी की कामना यह है कि काश यह बहुत आगे निकल जाये — काफी पाठक आकर्षित करने वाले सारथी से भी बहुत आगे!!

इस चिट्ठे के सारथी हैं दिनेशराय द्विवेदी कोटा, राजस्थान. दिनेश जी 1978 से वकील हैं. साथ-साथ साहित्यिक सांस्कृतिक गतिविधियों में भी सक्रिय हैं. कथा, व्यंग्य, आलेख लेखन आदि. वकालत के पूर्व कुछ वर्ष पत्रकारिता भी की थी, एवं लगता है कि वह अनुभव अब बहुत काम आ रहा है.

सामान्यतया जनतंत्र चार खंबों पर स्थित होता है जिन में न्यायपालिका को तीसरा खंबा कहा जाता है. यह चिट्ठा जनसामान्य को एवं सभी प्रबुद्ध भारतीयों को न्यायपालिका की समस्याओं एवं उसके कार्यक्षमता को बढाने के लिये आवश्यक जानकारी देता है.

इस चिट्ठे पर दिनेश जी का हर लेख एक क्लासिक रचना होती है है. ये लेख कुछ इस तरह से संवेदनशील एवं देशप्रेमी पाठकों की आखें खोल देते हैं कि फिर काफी समय नींद नहीं आती. इन लेखों द्वारा इन समस्याओं में एकदम से बदलाव नहीं आयगा, लेकिन इस तरह के लेख धीरे धीरे प्रबुद्ध पाठकों की आंखें खोलते है. कल को वे लोग कुछ न कुछ करेंगे. कोई भी क्रांतिकारी परिवर्तन रातोंरात नहीं आता है. उसके पीछे इन जैसे लोगों का अनवरत प्रयास छुपा होता है जो सालों तक बिना किसी रिटर्न के लोगों को जागृत करते रहते हैं.

दिनेश जी लिखते रहें. मैं आपके साथ हूँ. इन लेखों को अधिकतम हाथों में पहुँचाने के लिये जो कुछ मुझ से हो सकेगा वह मैं करूंगा !! इसका प्रमाण है यह लेख!! पाठकगण कृपया पहले चित्र को चटका कर तीसरे खंबे तक पहुंचें एवं उसे बुकमार्क कर लें जिससे कि खंबा आईंदा आपकी नजर से ओझल न हो जाये.

चिट्ठाजगत पर सम्बन्धित: हिन्दी, हिन्दी-जगत, राजभाषा, विश्लेषण, सारथी, शास्त्री-फिलिप, hindi, hindi-world, Hindi-language, विश्लेषण, आलोचना, सहीगलत, निरीक्षण, परीक्षण, सत्य-असत्य, विमर्श, हिन्दी, हिन्दुस्तान, भारत, शास्त्री, शास्त्री-फिलिप, सारथी, वीडियो, मुफ्त-वीडियो, ऑडियो, मुफ्त-आडियो, हिन्दी-पॉडकास्ट, पाडकास्ट, analysis, critique, assessment, evaluation, morality, right-wrong, ethics, hindi, india, free, hindi-video, hindi-audio, hindi-podcast, podcast, Shastri, Shastri-Philip, JC-Philip,

Share:

Author: Super_Admin

4 thoughts on “तीसरे खंबे की क्या जरूरत है ?

  1. वास्तव में तीसरा खम्बा एक महत्वपूर्ण क्षेत्र की कमी पूरी करता है ब्लॉग जगत में।

  2. दिनेश जी
    naa kewal achcha likhatey hae apitu vastavik jeevan mae bhi wohi haen jo kehtaey haen , aap kii putri mumbai mae mahillo kae iyae kaarya kar rahee haen

Leave a Reply to rachna Cancel reply

Your email address will not be published.