इस पूँजी को बर्बाद न होने दें !!

NewYear अकसर नये साल पर कई अखबार एक चित्र दिखाते थे जिसमे एक नवजात शिशु नये साल के प्रतिनिधि के रूप में प्रवेश करता है और उसी समय पिछला साल एक जर्जर वृद्ध के रूप में चित्र से पलायन करता है.

मानव समाज की एक बडी विडम्बना है कि उसके पास जो पूंजी आसानी से उपलब्ध है वह उसकी उपेक्षा करता है, लेकिन जो घूरा दूर से आकर्षक लगता है वह उसका पीछा करता है. अंत में घूरा उसको बर्बाद कर देता है, लेकिन तब तक उसकी अपनी अमूल्य पूँजी भी वह सालों की उपेक्षा के कारण खो चुका होता है.

आज समाज में जितने लोग उन्नत स्थानों में हैं, जितने लोग असीमित सामाजिक योगदान कर रहे हैं, जिनको दुनियां महत्व देती है, उन में से सिर्फ 20% लोग हैं जो परिवार, पृष्ठभूमि, या भाग्य के कारण उस स्थिति पर पहुंचे हैं. बाकी 80% अपनी मेहनत, एवं अवसर को पहचान कर उसके सही उपयोग के कारण उस स्थान तक पहुंच सके हैं. अफसोस यह है कि जो लोग इस तरह मेहनत कर सकते हैं उन में से अस्सी प्रतिशत न तो मेहनत करते हैं, न ही सुअवसर को पहचानते है.

मैं जब 18 साल का था तब डाक्टरों ने कह दिया था कि एक खास बीमारी के कारण मैं सिर्फ 35 साल तक जी पाऊंगा अत: न तो आगे पढूं, न शादी करूँ. यदि शादी करने जैसी बेवकूफी करूं तो बच्चे न हों इसका ख्याल रखूँ. हां यदा कदा एकाध डाक्टर ने बताया कि यदि एक खास तरीके से जीया जाये (रोज व्यायाम, सात्विक भोजन, पर्याप्त नींद, संतुलित जीवन) तो मैं 35 से आगे जा सकता हूँ. मैं ने ऐसा ही किया और प्रभु ने दया की तो चार छह हफ्तों में 56 का हो जाऊंगा. कहां 35 कहां 56. कारण यह कि मैं ने बीमारी के साथ साथ स्वस्थ रहने का गुर (अवसर) पहचाना, जीवन को व्यवस्थित किया और जो कुछ करना था वह सब कुछ किया. जो पूंजी 35 पर खलास होने वाली थी वह अभी भी साथ दे रही है.

हर साल के आरंभ में कई निर्णय लेता रहा. सन 2009 के लिये भी कई निर्णय लिये हैं. उम्मीद है कि अपने जीवन को इस तरह व्यवस्थित कर सकूंगा कि शायद 20 साल और सबके काम आ सकूँ.

आपका जीवन आपकी पूँजी है. हर नया साल इस पूँजी के नये उपयोग का अवसर देता है. इसे बर्बाद न होने दें. सन 2009 के लिये आपके निर्णय क्या क्या हैं?

 

यदि आपको टिप्पणी पट न दिखे तो आलेख के शीर्षक पर क्लिक करें, लेख के नीचे टिप्पणी-पट  दिख जायगा!!

Article Bank | Net Income | About IndiaIndian Coins | Physics Made Simple

Share:

Author: Super_Admin

12 thoughts on “इस पूँजी को बर्बाद न होने दें !!

  1. हमें आपके जीवन से सबक लेकर अपनी पूंजी को बर्बाद नहीं होने देना है. २००९ के पहले निर्णय का स्थान देता हूं आपकी इस सलाह को.

    ईश्वर को कि आप शतायु हों, और हमारा मार्गदर्शन करते रहें.

  2. आपका जीवन आपकी पूँजी है. हर नया साल इस पूँजी के नये उपयोग का अवसर देता है. इसे बर्बाद न होने दें
    कितने गहरे भाव और संदेश छुपे है इन शब्दों मे , हम जरुर इनका ध्यान रखेंगे …. भगवन आपको लम्बी और स्वस्थ आयु प्रदान करे
    Regards

  3. ईश्वर ने चाहा तो आप सौ साल भी जीएंगे, डॉक्टर कौन होता है यह निश्चय करने के लिए?

    नव वर्ष के अवसर पर हार्दिक शुभकामनाएं।

  4. बीमार होने से पहले बीमार ना होने वाले उपायों पर ध्यान देना

Leave a Reply to संजय बेंगाणी Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *