वैज्ञानिक चिट्ठे: भैंस के आगे बीन बजाये 002

 001 जैसा मैं ने वैज्ञानिक चिट्ठे: भैंस के आगे बीन बजाये 001 में कहा था, यह एक गलत धारणा है कि आम आदमी विज्ञान को नहीं समझ सकता या कि विज्ञान आम आदमी को नहीं समझाया जा सकता. आम आदमी एकदम से एक वैज्ञानिक नहीं बन सकता, लेकिन वह विज्ञान को अपने स्तर पर काफी गहराई से समझ सकता है. इस नजरिये से लिखे जाने वाले चिट्ठों की संख्या बढनी चाहिये.

हिन्दी में जो गिनेचुने विज्ञान-चिट्ठे हैं उन में डॉ अरविंद मिश्रा का साईब्लाग हरेक का पहला पडाव होना चाहिये. अरविंद जी एक सशक्त लेखक हैं और विज्ञान संवाद में उन्होंने काफी महत्वपूर्ण रोल अदा किया है.

002

निबंधों के साथ साथ पहेलियों द्वारा वैज्ञानिक ज्ञान फैलाने में एवं विज्ञान को बहुत अधिक जनप्रिय बनाने में “तस्लीम” ने जो किया है वह तारीफे काबिल है.  हम सब के जानेपहचाने और अति उत्साही युवा चिट्ठाकार जाकिर अली ‘रजनीश’ एवं डा अरविंद इस चिट्ठे के साथ और अगले चिट्ठे के साथ जुडे हुए हैं.

004

साईंस ब्लॉगर्स असोसियेशन इस दिशा में एक नया प्रयोग है जिसके साथ मैं भी जुडा हुआ हूँ. इस चिट्ठे ने एक से एक उपयोगी और जानकारीपरक आलेख छापना एक आदत बना लिया है जिसके लिये इसका बहु-लेख संघ प्रशंसा का पात्र है.

इन तीन चिट्ठों के अलावा और भी कई हैं चिट्ठे जो हिन्दी में वैज्ञानिक विषयों पर आलेख छापते हैं. लेकिन कुल मिला कर इन की संख्या जरूरत से बहुत कम है. उम्मीद है कि कुछ और लेखक/चिट्ठे इस विधा में जुडेंगे. यदि आप का कोई दोस्त वैज्ञानिक चिट्ठाकारी कर सकता है तो उसे जरूर प्रोत्साहित करें.

इस आलेख में किसी भी चित्र को चटका कर आप इन चिट्ठों तक पहुंच सकते हैं.

Indian Coins | Guide For Income | Physics For You | Article Bank  | India Tourism | All About India | Sarathi | Sarathi English |Sarathi Coins

Share:

Author: Super_Admin

14 thoughts on “वैज्ञानिक चिट्ठे: भैंस के आगे बीन बजाये 002

  1. There are so many scientists.,but for making a blog for the public , they don’t have time. Yesterday I was asking to my researcher to have a blog. Instant response was SIR,TIME KAHAN HA.

  2. आप सही कह रहे हैं – अभी तो लोग सुबुक सुबुकवादी कविता कथा ठेल रहे हैं। इतर विषयों पर लिखने का जोखिम (या माद्दा) दिखता नहीं।

  3. वैज्ञानिक नज़रिये को विकसित करना आज की महत्वपूर्ण आवश्यकता है। आपके द्वारा सुझाये गये ब्लॉग इस दिशा में मह्त्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं।

  4. इन चिट्ठों का साइंस चिट्ठाकारी में अवदान तो पूर्व-प्रशंसित ही है । अरविन्द जी और जाकिर जी का कौशल सहज ही दृष्ट होता है इनमें । यही चिट्ठे तो हैं जिन्होंने मुझ जैसे गैरवैज्ञानिक रुचि वाले मन-मस्तिष्क को भी वैज्ञानिक लेखों को पढ़ने का चाव दिया । आभार ।

  5. Thanks a lot for this review ! with a guide and a lover of science like you I must submit that the future of Hindi science blogging is very bright.And regarding the comment of Dr.Mukesh We could only hope that Indian scientist must be accountable to the public also by putting their works on blogs to convince the people that thier tax money is being properly utilized.

Leave a Reply to arvind mishra Cancel reply

Your email address will not be published.