केरल में मुस्लिम-ईसाई संघर्ष??

मेरे पिछले आलेख केरल में धार्मिक संघर्ष !! में मैं ने इशारा किया था कि धार्मिक सहिष्णुता के मामले में केरल एक आदर्श प्रदेश है. यहां के हिन्दू, ईसाई, मुस्लिम अपने अपने धर्मो, उसूलों, और कर्मकांड के मामले में बहुत कट्टर  हैं. लेकिन इस कट्टरता ने उनको दंगाई बनाने के बदले आपस में सहिष्णु बनाया है. इस कारण मेरे मित्र सुरेश चिपलूनकर ने  केरल में जिस संभावित मुस्लिम-ईसाई संघर्ष का भय प्रगट किया है वह एक अतिशयोक्ति है.

केरल के हिन्दू, मुस्लिम, एवं ईसाई हरेक अपने धर्मकर्म के मामले में अन्य प्रदेशों के स्वधर्मी लोगों से अधिक कट्टर है. लेकिन इसके साथ ही साथ केरल के हिन्दू, मुस्लिम, एवं ईसाई अन्य प्रदेशों के लोगों से अधिक सहिष्णू हैं. इसका एक कारण है साक्षरता एवं सामाजिक विषमता की कमी.

जिन प्रदेशों में लोग  अपढ होते हैं वहां धर्म एवं संप्रदाय के नाम पर लोग एकदम भडक जाते हैं. लेकिन जैसे जैसे लोग साक्षर होने लगते हैं, वैसे वैसे वे समझने लगते हैं कि लठ्ठ एवं तलवार से कुछ होने वाला नहीं है. वे हिंसाप्रिय होने के बदले शांतिप्रिय होने लगते हैं. ऐसे में सांप्रदायिक शक्तियां लोगों को आसानी से भडका नहीं पाती हैं.

केरल के ईसाई और हिन्दू लगभग शत प्रतिशत साक्षर हैं. मुस्लिम समाज भी द्रुत गति से इसी दिशा में जा रहा है. अन्य प्रदेशों की तुलना में केरल में  इनकी आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी है. बडे बडे व्यापारिक प्रतिष्ठन इनके चलाये चलते हैं. फलस्वरूप आपको बुर्का पहने कार चलाती महिलायें और सुपरमार्केटों में ट्रालियां धकेलती बुर्कापरस्त स्त्रियां हर जगह दिख जायेंगी. मेडिकल, इंजिनियरिंग एवं मेनेजमेंट कालेजों में बुर्कानुमा कपडे पहनी लडकियों को भारी मात्रा में देख सकेंगे. इस संपन्नता एवं  साक्षरता ने केरल के मुस्लिम समाज को सांप्रदायिक शक्तियों की हिंसात्मक नीति से बचा कर रखा है.

कुल मिला कर कहा जाये तो सुरेश की यह भविष्यवाणी कि “हिन्दुस्तान का पहला मुस्लिम-ईसाई संघर्ष केरल से आरंभ होगा” गलत आंकडों एवं केरल की सामाजिक स्थिति के बारे में उनके अज्ञान का फल है. इस तरह की गलत भविष्यवाणियों के कारण लोगों के मन में अनावश्यक शंकायें पैदा होती है. इस आलेख का लक्ष्य लोगों को ऐसी गलतफमी से मुक्त करवाना है.  सुरेश जैसे देशप्रेमी के लिए इतना इशारा पर्याप्त है.

Share:

Author: Super_Admin

17 thoughts on “केरल में मुस्लिम-ईसाई संघर्ष??

  1. चिपूलनकर साहब को यह जानकर बडा अफसोस होगा के “हिन्दुस्तान का पहला मुस्लिम-ईसाई संघर्ष केरल से आरंभ नहीं नहीं होगा” वह आपका इशारा समझ गये होंगें, अफसोस उनकी दंगा अभिलाषा केरल में पूरी होती नहीं दिखायी दे रही, खेर ब्लागिंग सलामत तो उम्‍मीद बाकी,

  2. What will happen, predicting a event is really difficult but assurance to a non-conflict, specially between Muslims and Christians (people of these religion destroyed so many cultures and societies in order to increase there acceptability)is a political analyst job. I think a journalist is more aware on that front in comparison to a professor ( who see all grass colored as green)

  3. शास्‍त्री जी, आपके आलेख में केरल के धार्मिक वातावरण के बारे में निकट से जानने का मौका मिला। वहाँ शायद सहिष्‍णुता इसलिए भी है कि लोग एक दूसरे के धर्म संबंधी मामलों में टांग नहीं अड़ाते, किसी भी प्रकार का तर्क-वितर्क नहीं करते।

    मेरी बात थोड़ी हटकर है। आपके लेख में एक अन्‍य पक्ष भी दिखाई पड़ रहा है, वह है कट्टरता और उसे समर्थन देने का पक्ष, कि आप जैसे उदार और सम्‍माननीय (जिनके हाथ का चंदा शुभ माना जाता है) को भी मंदिर में प्रवेश नहीं मिलता। ऐसी भी क्‍या सहिष्‍णुता कि मंदिर में प्रवेश निषेध जैसे (आधारहीन) नियम का सम्‍मान किया जाए? ऐसी भी क्‍या पढ़ाई-लिखाई, कि कार चलाती और मॉल में विचरण करती अकसर बुरकापरस्‍त महिलाएँ दिखाई दे जाएँ? आपको इसमें कोई अटपटा नहीं लगता क्‍योंकि आप ईसाई हैं, और यह हिंदू या मुस्लिम धर्मों के अंदरूनी नियम हैं।

    यह मान्‍यता रही है कि साक्षरता अधिक होने से कट्टरता कम होती है। परंतु आपके लेखों से इससे विरोधाभास दिखाई पड़ता है। ऐसी साक्षरता का अर्थ ही क्‍या है कि धार्मिक कट्टरताओं के खिलाफ कोई क़दम नहीं उठाता, बल्कि सब उनका समर्थन करते हैं?

    – आनंद

  4. शास्त्री जी आपका मतभेद प्रकट करने का तरीका अनुकरणीय लगा.
    सादर.

  5. आदरणीय शास्त्री जी ,

    दरसल गाँधी जी जी ने जब भारत के लिए एक धरम निरपेक्ष राष्ट्र की कल्पना की थी , तब उन्होंने सोचा था की अभी हमारे राष्ट्र मैं काफी अशिक्षा है , जैसे जैसे राष्ट्र विकसित होगा हम एक पढ़ा लिखा समाज बनेगे , तो हम धरम निरपेक्ष रास्त्र के रूप मैं परिपक्व होंगे , वो एक उचे सिधान्त के व्यक्ति थे , पर उन्होंने जिन्ना जैसे व्यक्ति से सीख नहीं ली , वो भी पढ़ा लिखा था , पर साम्प्रदायिकता का जो जहर उसने फैलाया उसका असर हम आज भी झेल रहे हैं ,आज हमारे देश मैं वैसे कई पढ़े लिखे जिन्ना हैं , उन्हें उसी वक़्त नए भारत की सुरुआत मैं साम्प्रदायिकता के खिलाफ कड़े कानून की पहल करनी कहिये थी पर दुर्भाग्य से ऐसा न हो सका , आज जरूरत है साम्प्रदायिकता के किलाफ़ कड़े कानून की ,और एक ऐसे शिक्षा पध्यति की जिसमे देश के प्रति सम्मान और साम्रदायिकता के खिलाफत हो . यही एक तरीका है जिससे हम इस सांप सेलड़ सकते हैं

  6. और धर्मों को अब जरूरत है ऐसे हजारों गांधियों की क्योंकि धर्मों का वास्तविक स्वरुप स्वयं कट्टरता को बढावा देता है , और आज कल के पढ़े लिखे अमीर लोग उन पुरानी चीजों को बढ़ावा दे रहे हैं , एक गाधी को तो ये लोग आराम से हटा देंगे इसलिए मैंने हजार कहे .

  7. शास्त्री जी !
    बिलकुल सहमत हूँ आपके लेख से , निरक्षरता और और संकुचित ह्रदय लिए साक्षर व्यक्तियों की अदूरद्रष्टिता, के कारन यह स्थिति उत्पन्न हुई है कि धर्म के नाम पर लोग विषवेल बो कर भी तारीफें पा रहे हैं ! इन गाल बजाते लोगों का उत्साह वर्धन करते पढ़े लिखे मूर्ख हर जगह देखे जा सकते हैं !!

    दुःख यह है कि सज्जन लोग गाली खाने के भय से बोलने और विरोध करने में कतराते हैं ! मगर फिर भी पहले से स्थिति बेहतर हुई है ! आशा है हमारे बच्चे इन घटिया मनोवृत्ति के बारे में सोचेंगे भी नहीं !

  8. Hi,

    Hope you are doing well! This is Anamika Tiwari from Webneetech.com. At present we are interviewing entrepreneurs and now we are starting another section to feature (interview) bloggers and their blog on webneetech.com

    We find your blog bit interesting and would like to feature your interview on our website.

    I was not able to find any contact details of yours so using this comment box. Please let me know your email id or else contact us on i.webneetech@gmail.com, so that we can send you the questionnaire and feature you on webneetech.com Please visit http://www.webneetech.com to know more about us.

    Regards,
    Anamika
    Webneetech.com

  9. हिन्दुस्तान का पहला मुस्लिम-ईसाई संघर्ष केरल से आरंभ नहीं नहीं होगा”.to yah aapna ser fard layagay.

  10. http://hinduonline.blogspot.com/

    Before the grand lanch function of “Bharat Swabhiman Mission”
    Baba Ramdev seems to be genueinly interested
    in the betterment of desh, dharam, rajniti
    and i used to watch him on Aastha channel regularly

    But right from the lanch function of “Bharat Swabhiman Mission”
    where Babaji had invited a Shia Muslim maulaavi
    and introduced him as his darling brother
    speeches of Babaji has lost its sharpness
    for the protection of desh, dharam, rajniti

    Maybe its the price one has to pay
    to garner support of all residing in india
    and whether they are muslim
    it does not matter

    As a common hindu
    what more could i have done but
    only stopped actively watching Babaji
    from that lanch function
    though i still regard Babaji
    as a great yoga master
    and for his oratory skills

    But, now in the present controvercy
    of Devband fatva against Vande Mataram
    attended by Babaji and home minister
    hindus should protest and show their displeasure
    to both Babaji and home minister
    for agreeing to be a part of function
    working against the spirit of Bharat
    and consolidating/ fanning the Jihadi movement

    As politicians support Jihadis
    for capturing muslim vote bank
    is Babaji trying to capture
    muslim and sickular followers
    by agreeing to attend Jihadi function
    and not speacking out against
    the fatva then and there
    not even 2 days after that

    all this when Babaji is
    the most outspoken hindu guru
    who is more than ready to
    give sound bytes on each and every
    topic including yoga
    and never take any nonsense
    laying down from any celebrited reporters/ editors

    is it that like all other leaders
    whether they are politicians or not
    they are always supporting Jihadis
    at the cost of hindus
    and like them Babaji too
    wants to capture muslim and sickular followers
    and / or
    even Babaji fears from Jihadis

    O Hindus come out of your hibrenation
    how long you want to wait
    for things to get worse
    before trying for their recovery

    its easy to get charged up against Jihadis
    but path to recovery goes first
    by winning over the sickular hindus

    O Hindus, this is the time
    to lanch campainge against
    all sickular hindus
    in the form of Babaji
    and dont wait for RSS/ BJP/ VHP
    dont look forward for their orders
    listen to your heart/ mind

    Babaji has a reputation
    of coming out sucessfully
    from every controvery in the past
    which where lanched by sickulars
    but this time
    if common hindus campainge
    against his sickular tendencies
    at least he has to say sorry
    for his moments of weakness

    i appeal all PRO-HINDU bloggers
    to write-up on this topic from their heart
    so that greater clearity and publicity to
    hindu’s view emerage in media

    also remember that
    blogging alone cannot provide
    answers to worldly problems.

    http://hinduonline.blogspot.com/2009/11/original-post-no-4-o-hindus-come-out-of.html

    .

  11. गुरुदेव!
    आदरणीय सुरेसजी कोन है ? पहले तो आप यह बताना ही भुल गऎ ? क्या वे गुप्तचर विभाग के मुख्या है ? या कोई धर्म गुरु है ? उसी के बाद ही टिप्प्णी की जा सकती है ……

  12. सहिष्णुता के बारे में आपकी बात सही है कट्टरता के बारे में शायद न हो. मेरे बहुत से मलयाली मित्र और सहकर्मी रहे हैं, तीनों ही धर्मों से (एक ईसाई मित्र के साथ अभी भी सहयोग चल रहा है.) इन सब में यह बात कॉमन है कि वे सब शिक्षित, सरल और सहिष्णु हैं. कट्टरता की आपकी परिभाषा क्या है पता नहीं मगर मेरा मलयाली मुस्लिम सहकर्मी अंशतः शाकाहारी (वह मज़ाक में अपने को अन्डोरियन = अन्डाखोर कहता था) था और बकरीद को भी बलि नहीं चढ़ाता था. ईसाई और हिन्दू मित्रों के धर्म का पता भी सिर्फ उनके नाम से ही लगता था वरना कोई भी बाह्याडम्बर नहीं.
    ~अनुराग शर्मा

  13. R/Sir, I am also reaching Trivandrum on 06.05.2010, with an ardent desire of watching God’s own country. Would any one kindly guide me about the things to see there. ….Subhan Ali, Ghaziabad.

Leave a Reply to rahul srivastava Cancel reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *